बुधवार, 21 अप्रैल 2010

जब ख़यालों में...

जब ख़यालों में ढली ये ज़िन्‍दगी 
एक पहेली सी  लगी ये ज़िन्‍दगी 

कौन समझा कौन समझेगा इसे 
फूल-काँटों   से  भरी  ये ज़िन्‍दगी 

प्‍यास मिट जाये किसी की इसलिए 
बर्फ  सी  हरदम  गली  ये  ज़िन्‍दगी

कौन था जिसने संभाला हर घड़ी 
लड़खड़ाई जब  कभी ये ज़िन्‍दगी 

मैं अचानक बेखु़दी में ढल गया 
बारहा इतनी  खली ये ज़िन्‍दगी

हो  गये  रोशन   कई   बुझते   दिये 
सोजे़-ग़म में जब जली ये ज़िन्‍दगी

एक  हसीं  हसरत  की ख़ातिर दोस्‍तो
रात भर तिल-तिल जली ये ज़िन्‍दगी

10 टिप्‍पणियां:

  1. प्‍यास मिट जाये किसी की इसलिए
    बर्फ सी हरदम गली ये ज़िन्‍दगी !!!
    वाह ! लक्ष्मी कान्त जी ! आपतो हर नज्म में जान डाल देते हैं !आज के बेरहम मौसम में दुआ की तरह ये पंक्तियाँ बहुत सुंदर हैं ! बधाई स्वीकारें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बेहतरीन पंक्तियां।

    एक हसीं हसरत की ख़ातिर दोस्‍तो,
    रात भर तिल-तिल जली ये ज़िन्‍दगी

    इन लाईनों नें तो गजब ही ढा दिया भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  5. "प्‍यास मिट जाये किसी की इसलिए
    बर्फ सी हरदम गली ये ज़िन्‍दगी"
    नाजुक भावों और अहसासों से रूबरू कराती लाजवाब रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक हसीं हसरत की ख़ातिर दोस्‍तो,
    रात भर तिल-तिल जली ये ज़िन्‍दगी
    बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनभावन रचना, दिल को छू जाने वाली रचना,
    अति सुन्दर, सटिक, एक दम दिल कि आवाज.
    कितनी बार सोचता हु कि इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है.
    अपनी ढेरों शुभकामनाओ के साथ
    shashi kant singh
    www.shashiksrm.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  8. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    उत्तर देंहटाएं
  9. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये लिंक पर जाकर रजिस्टर करें . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्‍यास मिट जाये किसी की इसलिए
    बर्फ सी हरदम गली ये ज़िन्‍दगी

    वाह बेहतरीन ग़ज़ल कही है आपने...मेरी दाद कबूल करें...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं